बाराचट्टी के मोरही गांव के लोगों को पक्की सड़क नसीब नहीं, गाड़ी तो दूर पैदल चलना भी दुर्लभ.

Gaya/रिपोर्ट बिप्लव कुमार:-गया जिले का अति नक्सल प्रभावित प्रखंड बाराचट्टी “जिसके विकास के लिए केंद्र से स्पेशल पैकेज मिलता है,” बावजूद इसके लोग बुनियादी सुविधाओं से महरूम हैं. ऐसा ही एक मामला आया है बाराचट्टी प्रखंड के मोरही गांव का जिसका एक टोला पर निवास करने वाले लोग आजादी के बाद से पक्की सड़क को तरस रहे हैं और इस सुशासन कि राज्य में कोई पदाधिकारी और जनप्रतिनिधियों का बाट जोह रहे हैं, “कि कोई तारणहार हमारे गांव में पक्की सड़क बनवा दे” लेकिन निराशा के सिवा कुछ नहीं मिल रहा है.

जबकि सुशासन के मुखिया नीतीश कुमार द्वारा सभी जिला पदाधिकारियों को फरमान जारी क़िया हुआ है कि एक सौ से अधिक घरों की बसावट को पक्की सड़क से जोड़ना है बावजूद जिला प्रशासन का कोई ध्यान नहीं है एवं ना ही आज तक कोई स्थानीय प्रतिनिधि ने पहल किया है. ज्ञात हो कि गया का सांसद बाराचट्टी प्रखंड से ही आते हैं लेकिन सांसद महोदय का भी इस ओर कोई ध्यान नहीं गया है.

स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि बरसात के मौसम में हम लोगों को घर से बाहर निकलना और शहर जाना दुर्लभ हो जाता है, बीमार पड़े एवं गर्भवती महिलाओं को अस्पताल पहुंचाने में काफी असुविधा होती है जिसके कारण जान जाने की खतरा बना रहता है.

लोगों ने कहा कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों से सड़क की गुहार लगाते-लगाते थक चुके हैं लेकिन अभी तक सड़क नहीं बन पाई है और अंत में ग्रामीणों ने थक हार कर मीडिया को अपना दुख दर्द सुनाने की मजबूरी बताया है. मीडिया के माध्यम से जिला प्रशासन एवं सरकार से अभिलंब इस सड़क को बनाने की मांग किया है अब देखना यह है कि जिला प्रशासन ग्रामीणों की समस्या की ओर ध्यान देता है या समस्या जस की तस बना रहता है

 2,216 total views,  2 views today

Share and Enjoy !

0Shares
0
0Shares
0