जीतन राम मांझी ने किया पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल विस्तार की मांग,कहा प्रशासक के हाथ में कमान देना उचित नहीं.

Patna:– हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बिहार में पंचायत चुनाव कोरोना के कारण समय पर नहीं होने के कारण कार्यरत पंचायत प्रतिनिधियों को ही १५ जून के बाद कार्यकाल विस्तार करने की मांग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से किया है,जबकि सरकार प्रशासक के हाथ में कमान देने की तैयारी में है।

ज्ञात हो कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सबसे पहले ही पंचायत प्रतिनिधियों की कार्यकाल विस्तार की मांग कर चुके हैं,वहीं बिहार सरकार में सहयोगी भाजपा के सांसद रामकृपाल यादव यादव ने भी नीतीश कुमार को पत्र लिखकर कार्यकाल विस्तार करने की मांग किया है।विदित हो कि झारखंड में भी पंचायत चुनाव समय पर नहीं होने के कारण कार्यरत प्रतिनिधियों को ही कार्यकारी अध्यक्ष बनाते हुए पूर्व की भांति छह माह के लिए कार्यकाल विस्तार कर दिया है।

उसी को आधार मानकर बिहार में भी प्रमुख संघ तथा मुखिया संघ झारखंड की तर्ज पर कार्यकाल विस्तार की मांग कर रहे हैं।जिसमें विपक्ष के साथ साथ सता पक्ष के नेताओं का भी साथ मिल रहा है।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पंचायती राज विभाग दोनों पक्षों पर सरकार की सहमति हेतु फाइल भेजा है जो मुख्यमंत्री और सरकार के पास कोरोना के कारण विचाराधीन है।बिहार के तमाम जनप्रधिनिधी सरकार की निर्णय की इंतेज़ार बेसब्री से कर रहे हैं। जनप्रतिनिधियों का यह भी कहना है कि यदि सरकार प्रशासक के हाथ में कमान सौंपी तो झारखंड सरकार की निर्णय का आधार मानते हुए कार्यकाल विस्तार के लिए न्यायलय की शरण में जाएंगे।

 3,591 total views,  10 views today

Share and Enjoy !

0Shares
0
0Shares
0