बिहार में डबल इंजन की सरकार के बावजूद बिहारवासी भगवान और यमराज भरोसे – बीरेन्द्र गोप

गया/राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश महासचिव सह ओबीसी महासभा बिहार प्रदेश अध्यक्ष अधिवक्ता बीरेन्द्र कुमार उर्फ बीरेन्द्र गोप ने बयान जारी कर बिहार में संक्रमण की भयावह स्थिति का जिम्मेवार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं डबल इंजन की सरकार को ठहराया है। बीरेन्द्र गोप ने कहा कि बिहार में 40 लोकसभा सीट में से 39 सांसद, 9 राज्यसभा सांसद और 5 केंद्रीय मंत्री है। 16 वर्षों से NDA के CM नीतीश कुमार और दो-दो उपमुख्यमंत्री है बावजूद इसके बिहार में वैक्सीन, ऑक्सीजन और बेड की उपलब्धता देश में सबसे निचले पायदान पर है। इतना संवेदनहीन, हर मोर्चे पर विफल, निक्कमी सरकार कहीं और नहीं मिलेगी।

श्री गोप ने कहा कि विगत 3-4 वर्षों से आपदा-विपदा में बिहार को कभी भी केंद्र सरकार का सकारात्मक सहयोग नहीं मिला।फिर भी बिहारवासियों ने विगत लोकसभा चुनाव में NDA को प्रचंड बहुमत दिया । इसके बावजूद भी केंद्र सरकार की सौतेलापन व्यवहार से ऐसा प्रतीत होता है कि केंद्र बिहार को देश का अभिन्न अंग मानती ही नहीं। श्री गोप ने कहा कि जनसंख्या व क्षेत्रफल के साथ साथ ग़रीबी, बेरोज़गारी, पलायन और कोरोना संक्रमण दर में बिहार देश के अव्वल प्रदेशों में से एक है,लेकिन बिहार को उस अनुपात में केंद्र से सहयोग कभी नहीं मिला। जिसके लिए बिहार सरकार और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जिम्मेवार हैं,क्योंकि किसी भी बैठक या मोर्चे पर मज़बूती से उन्हें बिहार का हक़ और हिस्सा माँगते नहीं देखा गया है और ना ही सुना गया। अन्य प्रदेशों के मुख्यमंत्री तार्किक, तथ्यात्मक तथा अक्रामक रूप से अपना प्रदेश की समस्याओं एवं संसाधनों की कमी को केंद्र की समक्ष खुल कर बैठकों में प्रधानमंत्री को व्यक्त करते है लेकिन बिहार के अनुकंपाई मुख्यमंत्री अभी तक के सबसे कमजोर,लाचार,बेवश, डरे सहमे और दुबके से रहते है, वे न तो प्रदेश में व्याप्त समस्याओं और संसाधनों की कमी को स्वीकार करते हैं और ना ही कुर्सी जाने के भय से केंद्र सरकार से कोई माँग करते है।

श्री गोप ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस वक्त सिर्फ़ मौत और जाँच के आँकड़े कम करके बिहार वासियों को गुमराह करने में व्यस्त हैं। उन्होंने बिहार को भगवान एवं यमराज के भरोसे छोड़ दिया हैं। आगे श्री गोप ने कहा कि इससे शर्मनाक बात और क्या होगी,अब तो वे उच्च न्यायालय को भी गुमराह करने में लगे हैं। मैं जानता हूं अब नीतीश कुमार में विशेष राज्य की दर्जा माँगने की बात तो छोड़िए बिहार का वाजिब अधिकार व हिस्सा माँगने की भी हैसियत नहीं है।

 446 total views,  10 views today

Share and Enjoy !

Shares
Shares